Adsense

भारत के प्रमुख पठार,तटीय मैदान तथा प्रमुख द्वीप

भारत के प्रमुख पठार,तटीय मैदान तथा प्रमुख द्वीप 







हम यहाँ पर भारत के कुछ महत्वपूर्ण पठारों,तटीय मैदानों तथा सबसे महत्वपूर्ण द्वीपों के बारे में कुछ महत्वपूर्ण चर्चा करेंगे -

(1) दक्कन का पठार :-

  • इस पठार का निर्माण लोअर क्रिटेशियस युग में दरारी उदभेदन ज्वालामुखी के माध्यम से निकलने वाला लावा के जमाव से बेसाल्टिक चट्टानों के अपरदन से बानी काली मृदा से हुआ है |
  • दक्कन के पठार के विस्तार को कर्नाटक में "मैसूर का पठार",महाराष्ट्र में "मराठावाड़ का पठार",गुजरात में "काठियावाड़ का पठार",मध्य भारत में "तेलंगाना का पठार",राजस्थान व मध्यप्रदेश में "मालवा का पठार" तथा केवल राजस्थान में "हाड़ौती का पठार" के नाम से जाना जाता है |
  • यही कारण  है की भारत में सर्वाधिक कपास व मूंगफली गुजरात में,सर्वाधिक संतरा महाराष्ट्र में तथा सर्वाधिक सोयाबीन मध्यप्रदेश में व सर्वाधिक धनिया राजस्थान में उत्पादित किया जाता है |

(2) छोटा नागपुर का पठार :-

  • इसका निर्माण प्रीकैंब्रिअन युग में ज्वालामुखी क्रिया से उत्पन हुए मेग्मा के दबाव से ऊपर उठकर एक गुंबदाकार पठार बन गया,जिस पर झारखण्ड राज्य स्थित है |
  • मेग्मा के कारण यह पठार खनिजों की दृष्टि से अत्यंत समृद्ध है,यही कारण है की झारखण्ड खनिजों के भंडार में प्रथम स्थान रखता है |
  • दामोदर नदी इस पठार को दो भागो में बांटती है |

(3) शिलांग का पठार :-

  • मेघालय में फैला यह पठार प्रायद्वीपीय पठार का ही भाग है,अर्थात प्रायद्वीपीय पठार से शिलांग का पठार मालदा गैप से पृथक होता है |
  • शिलांग के पठार पर गारो,खासी,जयन्तिया पहाड़ियां फैली है |

(4) बुंदेलखंड का पठार :-

  • उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश में फैला यह पठार विंध्यचल पर्वत,मालवा के पठार और यमुना नदी से घिरा हुआ है |
  • यमुना व उसकी सहायक नदियों के द्वारा यह क्षेत्र अवनालिका अपरदन के लिए जाना जाता है,जो उत्खात स्थलाकृतियों (बीहड़) का निर्माण करती है |

(5) बघेलखण्ड का पठार :- 

  • मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ में फैला हुआ है |

(6) दंडकारण्य का पठार :-

  • छत्तीसगढ़ व ओडिसा में फैला यह पठार वर्तमान में नक्सलवाद की समस्या से प्रभावित है |
  • इस पठार में गोंड जनजाति निवास करती है |
  • इस पठार को गोदावरी नदी दो भागो में विभाजित करती है अर्थात उत्तरी भाग को बस्तर का पठार तथा दक्षिणी भाग को तेलंगाना का पठार कहा जाता है |

भारत के तटीय मैदान :- 

भारत के तटीय मैदानों को दो भागो में बनता गया है :-
(1) पश्चिमी तटीय मैदान (2) पूर्वी तटीय मैदान

(1) पश्चिमी तटीय मैदान :-

  • पश्चिमी तटीय मैदान कटा-फटा होने के कारण प्राकृतिक बंदरगाहों के लिए तो अनुकूल है लेकिन कृषि के लिए अनुकूल नहीं है |
पश्चिमी तटीय मैदानों को पुनः विभाजित किया गया है,जो इस प्रकार है :-

(i) गुजरात तट :-
  • इसे कच्छ का तट,सौराष्ट्र तट तथा काठियावाड़ का तट भी कहा जाता है |
(ii) कोंकण तट :-
  • सूरत से गोवा के मध्य स्थित है |
(iii) कन्नड़ या कनारी तट :-
  • गोवा से मंगलौर के मध्य स्थित है |
(iv) मालाबार तट :-
  • मंगलौर से कन्याकुमारी तक,विशेषकर केरल राज्य में फैला यह तट बागानी कृषि के लिए तथा लैगून झीलों के लिए प्रसिद्ध है |

(2) पूर्वी तटीय मैदान :-

  • पूर्वी तट कृषि के लिए तो उपयोगी है,लेकिन प्राकृतिक बंदरगाहों के लिए अनुकूल नहीं है |
पूर्वी तट को भी पुनः विभाजित किया गया है :-
(i) कोरोमंडल तट :-
  • तमिलनाडु के तट को कोरोमंडल तट कहा जाता है,जिस पर देश में सर्वाधिक ताड़ के वृक्ष पाए जाते है |
  • इसी तट पर स्थित चेन्नई से भारत का औसत माध्य समुद्र तल ज्ञात किया जाता है |
(ii) काकीनाडा का तट :-
  • आंध्रप्रदेश में स्थित है |
(iii) उत्कल तट :-
  • ओडिसा में स्थित है |
(iv) उत्तरी सरकार तट :-
  • पश्चिमी बंगाल में स्थित है | 

भारत के द्वीप समूह :-

(1) लक्षद्वीप :-

  • इसे लाखो द्वीपों की संज्ञा दी गई है |
  • यह भारत का सबसे छोटा केंद्रशासित प्रदेश है (३२ वर्ग किमी.),जिसकी राजधानी कवरत्ती है |
  • यह एक प्रवाल निर्मित द्वीप है |
  • लक्षद्वीप व् मिनिकॉय 9 डिग्री चैनल से पृथक होता है,जबकि 8 डिग्री चैनल से मिनिकॉय व मालदीव पृथक होता है |
  • लक्षद्वीप अरब सागर में स्थित है |

(2) अंडमान-निकोबार द्वीप समूह :-

  • बंगाल की खाड़ी में स्थित अंडमान-निकोबार द्वीप समूह हिमालय का समुद्र में डूबा हुआ भाग के उभरे हुए शिखर या चोटी है |
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा केंद्रशासित प्रदेश है,जिस पर सबसे ज्यादा वन्यजीव अभ्यारण्य स्थित है |
  • अंडमान व निकोबार 10 डिग्री चैनल से पृथक होते है |
  • उत्तरी अंडमान के पूर्व में नरकोंडम व बैरन ज्वालामुखी स्थित है |
  • अंडमान-निकोबार की सबसे ऊँची पर्वत चोटी सैडल पीक है (अंडमान में),इसके बाद दूसरी सबसे ऊँची चोटी धुलियार है |

अन्य तथ्य :-

  • भारत व बांग्लादेश के मध्य विवादित न्यूमूर द्वीप हाल ही में वैश्विक तपन के कारण समुद्र में दुब गया है |
  • बंगाल की खाड़ी में गंगा के मुहाने पर गंगासागर द्वीप तथा ओडिसा के तट पर व्हीलर द्वीप स्थित है,जिसका हाल ही में नाम बदलकर अब्दुल कलाम द्वीप कर दिया है |
  • भारत में कहवा का सर्वाधिक उत्पादन कर्नाटक राज्य में,नारियल,काजू,किशमिश,इलायची,काली मिर्च,गरम मसाला,लौंग आदि के उत्पादन में केरल राज्य अग्रणी है |
  • भारत में सर्वाधिक लैगून झीले केरल राज्य में है,जिन्हे कायल कहा जाता है |
  • केरल राज्य की सबसे बड़ी लैगून झील "वेम्बनाद" है,जिसके किनारे कोच्ची शहर तथा वेलिंगटन द्वीप स्थित है |
  • जबकि देश की सबसे बड़ी लैगून झील ओडिसा की चिल्का झील है,जो भारत की सबसे खारी झील भी है |
  • तमिलनाडु का कच्चातिबु द्वीप श्रीलंका को दे दिया गया है |
  • मन्नार की खाड़ी में स्थित पम्बन द्वीप व हेयर द्वीप तमिलनाडु के अधिकार में है |
  • नर्मदा व ताप्ती नदी के मुहाने पर अरब सागर में आलियबेट व खडियाबेट कांप निर्मित द्वीप है |
  • मुंबई सात द्वीपों पर बसा नगर है,जो मुख्य रूप से वर्तमान में सालसेट द्वीप पर स्थित है | इसके अलावा हेनरे,केनरे,बुचरे,एलीफैंटा,अरनाला,करनाला है |

Post a Comment

0 Comments